म्युचूअल फंड चुनने के बेहतरीन 9 फाॅर्मुले | How to Choose Best Mutual Funds in Hindi 2021

Choose Best Mutual Funds in Hindi

आज के इस Digital Marketing के काल में सबसे महत्वपूर्ण होता है Invest Kaise Kare| सही इन्वेस्टमेंट करना जितना आसान दिखता है उतना होता नहीं इसलिये आज हम आपको How to Choose Best Mutual Funds in Hindi विषय पर कुछ महत्त्वपूर्ण बातें बतायेंगे जो कि आपको एक सही Mutual Fund Selection के लिये महत्त्वपूर्ण हो सकती हैं।

म्यूचुअल फंड और Mutual Fund SIP के बारे में समझने के लिये आप हमारा म्युचुअल क्या होता है और यह कैसे काम करता है और म्युचूअल फंड में एसआयपी कैसे करते हैं? यह आर्टिकल भी पढ़ कर जान सकते हैं।

इन्वेस्टमेंट ऐसी होनी चाहिये जो Bank Fixed Deposit जितनी कम भी ना हो और Stock Market जैसी High Risk भी ना हो इसलिये आज हम आपको सही म्युचूअल फंड कैसे चुनें इसी के बारे 10 महत्त्वपूर्ण चींजे बचायेंगे, तो चलिये जानते हैं।

    सही म्युचूअल फंड चुनने कि विधी (Section Createria for Choosing Best Mutual Fund)

    आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि अगर आप म्युचुअल फंड का चुनाव करने जा रहे हैं तो आप नीचे दिये गई चीजों पर रिसर्च जरुर करे फिर हि आप एक अच्छे Fund Selection कर सकते हैं।

    Choosing Best Mutual Funds  7 Createria in Hindi

    1. म्युचूअल फंड में इन्वेस्टमेंट करने कि अवधी:

    अगर आप म्युचुअल फंड में निवेश करने की सोचते हैं तो आपको यह पहले से यह तय करना होगा की कितने समय के लिये आपको इन्वेस्टमेंट करने जा रहे राशी कि जरुरत नहीं पड़ेगी। क्योंकि अगर आप कम समय में ज्यादा रिटर्न चाहते यह कम रिटर्न्स आये पर आप कम रिस्क में Investment Plan सही होगा ऐसा आप सोचते हो तो दोनों में आपको अलग अलग Createria फोलो करना पड़ेगा। इसलिये म्युचुअल फंड अवधी चुनना महत्त्वपूर्ण बन जाता हैं।

    अगर आप कम समय के लिये निवेश करना चाहते हैं तो आपको Liquidity,dept जैसे फंड के साथ जाना होगा और लंबे अवधी के लिये राशी रखनी है तो आप Equity Fund के साथ जाना उचित रहता हैं।

    2. फंड मैनेजर का पिछला रिकॉर्ड:

    अगर आपको एक फंड को चुनना है तो फंड मैनेजर कि भुमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है इसलिये उनका पिछला रिकॉर्ड और भुतकाल में अनके द्वारा चलाते गयें फंड ने कैसे Performance दिये गये हैं यह जानना भी उतना ही महत्वपूर्ण बन जाता हैं।

    हमने बहुत बार देखा है कि किसी फंड ने पिछले कुछ वर्ष बहुत अच्छा पर्फार्मेंस दिया है और कुछ कारणों से उस फंड का मैनेजर को बदल देने के बाद उसके रिटर्न्स के काफी बदलाव हुआ है।

    जब किसी फंड मैनेजर को एक फंड के लिये मैनेजर नियुक्त किया जाता है तो वह अपने हिसाब से फंड सेक्टर्स में बदलाव करता है इसलिये फंड मैनेजर पर हि ज्यादातर उस फंड का चलना या ना चलना अवलंबुन होता हैं।

    3. फंड का आयु देखना:

    अगर हम किसी फंड का चुनाव करते हैं तो नये किसी फंड का पिछला 2-3 साल का रिकॉर्ड देखकर हम उससे प्रभावित होते हैं लेकिन अगर कोई फंड कोई नया है यानी उसका 2 या 3 साल का रिकॉर्ड उपलब्ध नहीं है तो हम उसका विश्लेषण नहीं कर सकतें और ऐसे जाके हम अटक सकते हैं या हमारा इन्वेस्टमेंट किया हुआ पैसा फंस सकता हैं।

    अगर किसी फंड बहुत पुराना है तो हम उसके 5-5 साल या 3-3 साल का रिकॉर्ड का विश्लेषण करके फंड का सही चुनाव कर सकते हैं इसलिये फंड कि आयु भी बहुत ही Important Factor में से एक हैं।

    4. फंड पोर्टफोलियो को देखना भी है जरुरी:

    किसी फंड का चुनाव हम करने जाते हैं तो आपको उस फंडने या Fund Manager ने किस किस क्षेत्र में कितने कितने प्रतिशत Fund Investments कि है यह देखना बहुत ही Important हैं।

    अगर किसी क्षेत्र में या किसी Stocks में किसी कारण मंदी आती है या उसकी ग्रोथ कम होनेवाली है और ऐसे ही किसी में फंड मैनेजर ने इसका चुनाव किया हो तो आपको उसका नुकसान हो सकता हैं ऐसा काफी बार High Risk Mutual Funds होते हैं उनमें देखा गया हैं।

    5. दुसरे फंड से तुलना करना भी है इम्पोर्टेंट:

    अगर किसी फंड को सही से जानना है तो उसी के जैसे या उसके जैसे या उसी जैसे पोर्टफोलियो से मेलखाते फंड्स ने कितने Returns दिये हैं यह देखना बहुत मायने रखता हैं क्योंकि अगर हम किसी चींज को सही या ग़लत ठहराते हैं तो उसका एक हि तरिका होता है कि हम उसकी तुलना उसिके Compitator से करें तो हम उसे एक Bench Mark से तुलना से उसका अंदाज़ा लगा सकते हैं।

    6. रिस्क और रिटर्न्स का तालमेल है ज़रुरी:

    आज के समय में देखें तो 2000 से भी ज्यादा फंड्स मार्केट में उपलब्ध हैं इसमें हाय रिस्क, कम रिस्क, हाय रिटर्न्स, बैलेंस फंड ऐसे बहुत-सारे प्रकार के फंड मौजुद है इसलिये हमें अपने रिस्क अनुसार और आपको कितने रिटर्न्स का कितने दिनों में Expected हैं यह भी देखना इसका तालमेल रखना जरुरी है।

    अगर आपको कम अवधी में ज्यादा रिटर्न्स चाहिये तो आप हाय रिस्क ज्यादा रिटर्नवाले फंड का चुनाव कर सकते हैं या तो आपको कम रिटर्न्स चाहिये तो आप उस तरह के फंड का चुनाव कर सकते हैं यह पुरी तरह हमारे ऊपर डिपेंड कि हमारी Risk Capacity और Return Expection कितने हैं।

    7. फंड साईज को देखना है महत्त्वपूर्ण:

    अब आप कहेंगे इसका फंड के रिटर्न्स से क्या संबंध तो ऐसा नहीं है आपको इससे इस फंड में कितने लोग इंटरेस्टेड है या यह कितना लोकप्रिय फंड है यह पता चलता हैं। फंड साईज का सीधा संबंध होता है उस Mutual Fund Market Cap और उसके पास होने वाले Total Fund Assets Value सें जो कि फंड के बारे में बहुत कुछ बताता हैं।

    अगर किसी फंड की AUM ( Assets under management) 900 से 1000 करोंड़ है और की साल बाद भी वो बढी नहीं हैं तो यह फंड के प्रदर्शन पर प्रश्न खडे़ कर देगा इसका सीधा सीधा मतलब हैं कि लोगो को इस फंड्स में ज्यादा रुची नहीं है या इसकी भविष्य में ग्रोथ नहीं दिखाई दे रहीं।

    8. फंड के इंट्री या एक्सिट लोड को जानें:

    बहुत सारे फंड आपको ऐसे मिलेंगे जो कि आपको रिटर्न्स तो अच्छे दिखायेंगे लेकिन अगर आप उनके इंट्रि लोड या समय से पहले अगर फंड से पैसे निकलना चाहो तो उसका एक्सिट लोड बहुत ज्यादा चार्ज करेंगी इससे आपका मुनाफा कम हो जायेगा इसलिये यह देखना काफी Important हैं।

    अगर आप इसे जानना चाहते हैं आप बहुत सारी वेबसाईट द्वारा समान फंड कि तुलना से आप इसका पता लगा सकते हैं कि फंड का इंट्री अथवा एक्सिट लोड कम है या ज्यादा।

    ऐसे ही फंड का चुनाव करना बेहतर होगा कि जिसका Entry अथवा Exit Load कम या शुन्य हो। बहुतसी फंडों में आपको एक समय या अवधी के बाद कोई एक्सिट लोड नहीं चार्ज करती अगर ऐसा है तो आप अपनी निर्धारित समय सीमा को ध्यान में रखकर इससे बच सकते हैं।

    9. ब्रोकर या बैंक कहा शुरु करना होगा बेहतर:

    अगर आप म्युचुअल फंड चुनाव करते हैं या शूरु करने की ठाण लेते हो और यह अगर आप किसी बैक या ब्रोकर के द्वारा करते हैं तो आपका थोड़ासा कमिशन उनको देना पड़ेगा इसलिए अगर आपको इंटरनेट कि थोड़ी बहुत भी नाॅलेज है तो आप खुद से ही बहुत सारे ट्रस्टेड प्लॅटफाॅर्म है जैसे पेटींएम, कुवेरा, ग्रो, जेरोधा प्लॅटफाॅर्म और भी कई हैं इसमे से किसी एक से पर्चेज कर सकते हैं।

    आपने क्या सीखा:

    हमने आज How to Choose Best Mutual Funds in Hindi इस आर्टिकल में देखा कि म्युचुअल फंड चुनने के 9 तरिके कौन कौन से हैं। जिसे बैंक में सेविंग रिटर्न्स से ज्यादा चाहिये और जो शेअर मार्केट का गणित नहीं समझ सकता या उसे स्टाॅक मार्केट की समझ नहीं है वह म्यूचुअल फंड में बैंक से ज्यादा और थोडा कम रिस्क लेके कैसे सही म्युचूअल फंड का चुनाव कर सकते हैं यह देखा।

    आपको यह आर्टिकल उपयोगी लगा हो तो अपने मित्रो से जरुर शेअर करे और सिर में अगर कोई सवाल और सुझाव हो तो हमें जरुर लिखें।

    अन्य पढ़ें:

    म्युचूअल फंड चुनने के 7 तरिके ?

    शेअर मार्केट या म्युचुअल फंड कौंनसा हैं वहीं?


    Nishant Patil

    मेरा नाम Nishant Dhanpal Patil है। मै कोल्हापुर, महाराष्ट्र मैं रहता हु. मैंने शिवाजी युनिवर्सिटी से मेकॅनिकल इंजिनियर की शिक्षा पुर्ण की है। मैं शेयर मार्केट, म्युचुअल फंड, क्रिप्टो, टेक्नालॉजी, बिजनेस आइडियास, योजना, एप्लिकेशन इन विषयों पर लिखता हुं।

    Previous Post Next Post