सबसे अच्छा म्यूचुअल फंड निवेश करने के लिए ,7 चीजें जरुर याद रखें | Best Mutual fund Kaise Chune Hindi [August 2021]

Best Mutual Fund Choose Criteria Hindi 2021

अगर हम म्युचुअल फंड कि बातकरें तो आज के समय में 2000 से भी ज्यादा म्युचुअल फंड मार्केट में उपलब्ध हैं. कहते हैं Best Mutual fund Kaise Chune Hindi 2021 और सही कैसे चुनें? और सबसे बेस्ट म्युचुअल फण्ड कौन सा हैं ?

अगर हम आम आदमी की बात करें तो यह काफी चर्चा का विषय हैं, और यह सवाल सबसे पहले हमारे दिमाग में आता हैं जब हम म्यूच्यूअल फंड में इन्वेस्टमेंट करने कि सोचते हैं, जिसे शेअर मार्केट का गणित नहीं पता होता वह Mutual Fund कि और ही देखते हैं.

आज हम इसी के बारे में इस आर्टिकल में विस्तार से चर्चा करनेवाले हैं, अगर आप यह पुरा पढ़ लेते हैं तो आपको म्यूचुअल फंड कौन सा लेना योग्य होगा यह कभी भी ख्याल नहीं आयेगा.

    म्युचूअल फंड क्या होता हैं?

    यह एक सामुहिक निवेश होता हैं, म्युचूअल यानी आपसी और फंड यानी निवेश. अलग अलग निवेशकों द्वारा एक बड़ी राशी कि निवेश को एक व्यक्ती द्वारा अलग अलग या किसी एक सेक्टर पर निवेश किया जाता हैं जैसे शेयर मार्केट सेक्टर हो गया , असेट फंड हो गया ऐसे करके निवेश किया जाता हैं.
    जिसे शेयर मार्केट का ज्ञान नहीं होता और जिसे बैंक से ज्यादा रिटर्न्स चाहिते होते हैं या तो शेयर मार्केट में निवेश करने कि ज्यादा रिस्क नहीं देनी होती वह ज्यादातर म्यूचुअल फंड को सही मानते हैं, लेकिन इससे पहले यह सवाल आता है कि 2000+ से भी म्यूचुअल फंड मार्केट में हैं हमे किसमे निवेश करना योग्य होगा तो इसी की विस्तार से हम चर्चा करेंगे चलिये देखते हैं.

    सही म्युचूअल चुनने के लिये इन 7 बातों पर जरुर ध्यान दे

    1. फंड मैनेजर का ट्रैक रेकॉर्ड पर ध्यान दें ( Fund Manager Track Record)

    जब हम कोई म्युचुअल फंड को चुनने कि बात करते हैं तब सबसे पहले हमें जो भी फंड को कोई मैनजर चलाता है तो उसका Track Record को देखना बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि फंड में क्या बदलाव करने हैं फंड में से कब किस सेक्टर अथवा शेअर कंपनी को निकालना है या उसमें ऐंड करना है यह सब पुरी तरह फंड मैनेजर के साथ में ही होता है, इसलिये इबसे पहले इसे पुरी तरह जांच ले.

    2. डियवरसिफिकेशन से रिस्क कम होता हैं (Diversification Risk Minimise)

    इसका मतलब जो भी फंड होता है वह किस अलग-अलग सेक्टर में इसको Include किया गया हैं? मतलब बैंकिंग सेक्टर, फार्मा सेक्टर, रियालीटी प्रोपर्टी सेक्टर ऐसे कितने अलग अलग सैक्टर में फंड द्वारा निवेश किया गया हैं, क्योंकी अगर एक हि सेक्टर पर सारा फंड डिपेंड होता है तो किसी न्युज के कारण या मंदी के कारण इसमें अचानक गिरावट आती है तो आपका निवेश में आपको बहुत छोटा सहन करना पड़ेगा इसलिए अगर एक से अधिक सेक्टर हो तो अगर एक किसी कारण वश नीचे भी जाता है तो बाकी सेक्टर उसे बैलैंन्स कर देंगे और आपको ओवरऑल प्रोफिट हि होगा.

    3. फंड के रोलिंग रिटर्न देखना है जरुरी (Mutual Fund Rolling Returns)
    ज्यादातर लोग जब म्यूचुअल फंड पर ध्यान देते हैं तो वह सिर्फ 1 या 2 साल कि ही रिटर्न्स देखते हैं और वह अच्छा या बुरा इस नतिजे पे आते हैं लेकिन इससे हम गलत जगह पर इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं क्योंकि आजकल ज्यादातर फंड मैनेजर या कंपनीया अपने फंड का बहुत हि अच्छे तरिके से मार्केटिंग करती हैं,और एक साल में कुछ जुगाड करके अच्छे रिर्टन्स लाते हैं और उसी एक साल के रिटर्न्स को दिखाकर ग्राहकों को लुभाया जाता हैं, आजकल बहुत काॅपिटेशन कि वजह से लोग सिर्फ एक या दो साल के Quarterly Returns Result को देखकर फंड का Good हैं या Bad हैं इस नतिजे पे पोहच जाते हैं, लेकिन हमें इसके बदले Rolling Returns Observed करना चाहियें मतलब इसमें हम साल या दोसाल कि बजह आजतक के रिटर्न्स को 5 -5 सालो में डिवाइड करतें हैं. इससे हि हम कंपनी के रिकाॅर्ड को अच्छी तरह से जान सकते हैं.
    अगर म्युचुअल फंड सही में अच्छा है तो Long Term Rolling Returns भी अच्छे होंगे, तब आप उसमे Investment कर सकते हों. अगर आप इन्वेस्टमेंट के ऊपर अधिक जानकारी चाहते है तो हमारा इन्वेस्टमेंट कहा करनी चाहिये यह ब्लाॅग अवश्य पढ़ सकते हैं.

    4. एएमसी ट्रॅक रेकाॅर्ड को जानें ( Company AMC Track Record)

    म्युचुअल फंड चुनते समय में AMC Track Record का चेक करना भी बहुत जरुरी होता हैं, अगर एक कंपनी हैं और वह 10 फंड चलाती है तो हमें एक कि बजह वो 10 Fund कैसे चल रहे हैं सारे फंड ने हर साल कितने रिटर्न्स दिये हैं यह सब जानना होगा, क्योंकी कईबार क्या होता हैं कि किसी कंपनी का एक ही फंड ने Quarterly Returns ज्यादा दिये होते हैं तो वह उसे ही फोकस करती है ना कि बाकी फंड पे और हम मार्केटिंग से प्रभावित होकार ऐसी कंपनीयों में निवेश करते हैं बिना जादा सोचे हुयें तो हमें ऐसा नहीं करना हैं.
    किसी एक फंड को देखने कि बजह हम अगर पुरी AMC Track Record Analysis करें तो हमें Long term Investment Profit या Money Returns मिल सकते हैं.

    5. म्युचुअल फंड कि हिस्ट्री देखना जरुरी (Mutual Fund History)
    अगर आप कोई भी में Mutual Fund Investment करने कि सोचते हो तो कम से कम उसकी 6 या 7 साल कि रेकाॅर्ड उपलब्ध होनी चाहिये तभी उसमें इन्वेस्टमेंट करें.
    कई बार लक कि वजह से या तो किसी अन्य कारणों से एक साल के रिटर्न्स ज्यादा आते हैं तो हम उसी साल के  Returns को देखकर उससे प्रभावित होते हैं ऐसा हमें नहीं करना चाहिये बहुत बार कंपनीया मर्ज होती है की बार नाम Mutual Fund Name Change किया जाता है, या तो नया नया फंड Launch हुआ होता हैं तो ऐसे में इससे प्रभावित ना हों कम से कम 6-7 सारे के रेकाॅर्ड होनेवाले फंड का विचार करना बेहतर होगा.

    6. कम एक्सपेंन्स रेशों वाले फंड चुने ( Low Expense Ratio)

    एक बात ध्यान रखें कि जितना कम फंड रेशों होगा उतना हि कम राशी आपकी आपके निवेश से Fund Manager या Mutual Fund Company को जायेंगी और उतना ही ज्यादा  निवेश आपका फंड में लगेगा तो जितना Low Expense Ratio होगा उतना आपके लिये अच्छा होगा.

    7. पोर्टफोलियो टर्नओवर रेशों भी जांच लें ( Portfolio Turn Over)
    कई बार अचानक से Portfolio Turn Over Increase हो जाता है यह अक्सर तभी होता है जब फंड मॅनेजर या Filund manager Team Change कर दि जाती है तो वह अपने तरिके से स्टाॅक या सेक्टर में बदलाव करते हैं तभी ऐसा होता या , की बार किसी और फंड को या Scheme को Merge किया जाता है या Mutual Fund Reclassification हो जाता हैं, ऐसे में Mutual Fund Portfolio TurnOver अचानक से बढ़ रहा है तो आपको अलर्ट हो जाना होगा कि कुछ तो हो रहा है फंड में ऐसे में आपको इसका भी बखुबी से ध्यान रखना होगा जब आप म्युचुअल फंड को चुनने जाते हों तो.
    तो अगर आप इन 7 बातों को ध्यान रखते हो तो तो आपको बेस्ट म्युचुअल फंड 2021 चुनने के लिये कोई भी परेशानी नहीं रहेगीं.
    अगर आपको यह आर्टिकल Best Mutual fund Kaise Chune Hindi 2021 कैसा लगा ?अगर अच्छा लगा तो यह आर्टिकल को अपने मित्रों से जरुर साझा करें.और कोई सवाल और सुझाव हो तो हमें अवश्य लिखें.

    अन्य पढ़ें:

    म्यूचुअल फंड SIP क्या होती हैं?

    स्मार्ट तरिके से निवेश करने के 8 नुस्खे?

    Nishant Patil

    मेरा नाम निशांत पाटील है। मै कोल्हापुर, महाराष्ट्र मैं रहता हु. मैंने शिवाजी युनिवर्सिटी से मेकॅनिकल इंजिनियर की शिक्षा पुर्ण की है। मैं शेयर मार्केट, म्युचुअल फंड, क्रिप्टो, टेक्नालॉजी, बिजनेस आइडियास, योजना, एप्लिकेशन इन विषयों पर लिखता हुं।

    Post a Comment (0)
    Previous Post Next Post