Share Market मे SIP कैसे करे?

Share me SIP kaise kare

दोस्तो, आपको मालुम होगा की आजकल म्युचुअल फंड मे एसआयपी करने का बहुत ट्रेंड चला हुआ है, जिन जिन लोगो कों शेअर मार्केट की जादा जानकारी नहीं है वह भी म्युचुअल फंड मे एसआयपी करते दिख रहे है.
एसआयपी करना अच्छा है लेकिन वह कहा पर करनी है यह समजना बहुत जरुरी है. म्युचुअल फंड मे एसआयपी के रिटर्न्स काफी दिनो के बाद अच्छे ही मिलते है लेकिन जादा रिटर्न्स पाने की चक्कर मे कहीं लोग शेअर मार्केट के स्टाॅक्स मे एसआयपी का निर्णय लेते है जो की सबसे बडी गलती है.
आज हम इस ब्लाॅग मे जानेंगे की किसी शेअर अथवा स्टाॅक मे एसआयपी करना सही है अथवा गलत है? अगर एसआयपी करे तो करे कैसे? इन सारे सवालो के जवाब आपको मिल जायेंगे इस आर्टिकल के अंत तक तो यह आर्टिकल पुरा पढे.

SIP kya hoti hai in Hindi

SIP मतलब यह एक निवेश की पद्धति है जिसमे एकमुश्त रकम इनवेस्ट करने की बजह छोटी छोटी राशी मे एक समय अवधी के बाद जमा किया जाता है.
यह समय अवधी आमतौर पर साप्ताहिक, त्रेमासीक या मासिक होता है.

    SIP is good or not in Stocks

    अगर आपको शेअर मार्केट की कोई भी जानकारी बिलकुल नहीं है लेकिन बॅक एफडी से जादा रिटर्न्स चाहिये या शेअर मार्केट में इनवेस्टमेंट करना है लेकिन उसकी जानकारी नहीं है तो आप इनडायरेक्टली म्युचुअल फंड के जरिये इनवेस्टमेंट कर सकते है या उसमे एसआयपी कर सकते है.
    लेकिन अगर आपको थोडी बहुत भी शेअर मार्केट की जानकारी है तो आपको किसी स्टाॅक्स मे म्युचुअल फंड से बहुत अच्छे रिटर्न्स मिल जाते है.
    लेकिन अगर आप किसी एक स्टाॅक मे इनवेस्टमेंट कर रहे हो और कुछ सालो बाद अगर यह खबर आती है की जिसी भी स्टाॅक मे आपने इनवेस्टमेंट की है उसमे कुछ घोटाला हुआ है या कोई बुरी घटना हुई है तो अचानक से वो स्टाॅक 1000 से 0 रुपये भी हो सकता है.
     तो ऐसे मे एक ही स्टाॅक मे एसआयपी करना आपके सारे कियेकराये पण पाणी फेर देगा. लेकिन अगर आप 1 से जादा शेअरों मे एसआयपी करते है तो एक मे आपको लाॅस हो सकता है लेकिन बाकी मे आप फायदे मे रह सकते हो तो आपका अवरेज देखा जाये तो जादातार आप प्रोफिट मे हि रहोंगे.
    तो ऐसे मे किसी एक ही स्टाॅक कंपनी पर भरोसा रखकर इनवेस्टमेंट करना भारी पड़ सकता है चाहे वो कंपनी फिर निफ्टी 50 की ही क्यों ना हो क्यों कि निफ्टी फिफ्टी मे मौजुद 50 कंपनीया ऐसा नहीं की वही रहती है इसमे से बाहर भी हो जाती है यह बदलती रहती है.
    इसलिये किसी एक स्टाॅक या शेअर मे एसआयपी करना जोखिमों भरा हो सकता है.

    तो फिर एसआईपी कैसे करें?

    अगर आपको शेअर मार्केट के बारे मे कुछ भी जानकारी नहीं है तभी आप म्युचुअल फंड मे निवेश करे या एसआयपी करे अथवा आपके लिये शेअर मार्केट मे एसआयपी का सबसे अच्छा तरिका मै यहा पे आपको बताने जा रहा हुं.
    किसी एक स्टाॅक में एसआयपी करने से यह किसी भी वक्त जेरो हो सकता है या इसकी वाल्यु शुन्य हो सकती है यह बहुत ही रिस्की है इसलिये आप निफ्टी बीज करके एक शेअर की तरह ही एक ETF Stock आता है इसमे एसआयपी करे यह सबसे अच्छा और सिक्युर तरिका है इनवेस्टमेंट का.
    निफ्टी बीज यानी निफ्टी 50 इंडेक्स होता है उसे यह दर्शाता है जैसे जैसे यह बढेगा या कम होगा वैसे ही निफ्टी बीज बढेगा या कम होगा.
    इसकी सबसे बढी बात यह है स्टाॅक कोई भी हो वह शुन्य हो सकता है लेकिन निफ्टी 50 इंडेक्स कभी भी शुन्य नहीं होगा और पिछले कुछ सालो को उठा कर देखे तो यह सालो साल बढता ही गया है, यह कभी भी कम नहीं होता अगर होता है तो भी जादातर यह उपर ही जाता है

    आप अगर निफ्टी इंडेक्स का चार्ट देखेंगे तो आपको समज मे आयेगा की इसने कितने रिटर्न्स दिये है.
    यह जादातर उपर ही गया है निचे आया भी है तो फिरसे रिकवर हुआ है.

    Nifty Bees मे निवेश करने का तरिका

    अगर आप निचे दिये गये स्टेप्स को फोलो करोगे तो आसानी से अच्छे रिटर्न्स पावोगें, तो चलिये देखते है कैसे करे निफ्टी मे निवेश.
    1. आपके इनवेस्टमेंट के अनुसार आप एक राशी तय करले की कितनी राशी आप इनवेस्टमेंट करना चाहते है महिने मे एकबार या हप्ते मे एकबार या हो सकता है रोज थोडी थोडी.
    2. पर अगर मेरे मुताबिक माने तो आप जिस दिन मार्केट गिरेगा उस दिन आप अपने हिसाब से Nifty Bees के Quantity उठाले और उसे ऐसे ही चलने दे.
    3. याद रख जिस दिन मार्केट थोडा भी गिरेगा उस दिन आप मार्केट क्लोज होने के समय जो भी आपने तय कि है वह Quantity खरिद ले लेकिन जब भी मार्केट उपर जाकर बंद हो जायेगा उस दिन कुछ भी नहीं खरिदे.
    4. ऐसा अगर आप कई सालों से करते रहेंगे तब आप देखेंगे की आपको अच्छे रिटर्न्स मिलते जायेंगे क्योंकि आप दिनभदिन उसको अवरेज कर देते थे और अगर मार्केट मे जादा गिरावट भी आती है तो आप उस समय और Quantity खरिद रहे होगें.
    और यह बात हमेशा याद रखे की स्टाॅक या शेअर डिलिस्ट हो सकता है, झेरो हो सकता पर इन्डेक्स कभी भी झेरो नहीं होगा.

    Nifty Index ने कितना दिया है रिटर्न्स

    अगर हम निफ्टी का चार्ट देखते है तो यह दिखाई पडता है की फेब्रुवारी 2016 मे निफ्टी लगभग 7000 की प्राईज पर था और 2021 मे वो लगभग 15000 के आसपास चल रहा है ऐसे मे आप अंदाजा लग सकते है की यह कितने रिटर्न्स दे सकता है.
    यह 5 साल मे लगभग डब्बल हो गया है, अगर आपने 2016 साल मे 1 लाख के निफ्टी बीज खरिदे होते तो आज वही 1 लाख की किमत 2 लाख हुई होती और कभी भी शेअर की तरह डिलिस्ट होने की इसकी संभावना नहीं होती और यह 50% -60 % तक कभी भी नहीं गिर सकता इसलिये इसमे रिस्क भी ना के बराबर है.
    यह एसआयपी करने का सबसे बढिया तरिका है.

    निष्कर्ष/ Conclusion:

    अगर आप किसी चीज मे सीप चालु करना चाहते है तो वह Nifty Bees मे करे ना की म्युचुअल फंड या किसी शेअर मे, क्योंकि आपकी रिस्क ना के बराबर है और आपको रिटर्न्स भी बाकी तरीके से जादा ही मिलेंगे.

    FAQ

    Q: सीप / एसआयपी मतलब क्या? 
    Ans: एक निवेश की पद्धति है जिसमे एकमुश्त रकम इनवेस्ट करने की बजह छोटी छोटी राशी मे एक समय अवधी के बाद जमा किया जाता है.

    Q: शेअर मे एसआयपी क्यों न करे? 
    Ans: शेअर कभी भी आधा या जेरो भी हो सकता है इसलिये इंडेक्स मे एसआयपी करे वो कभी जरो नहीं होगा.

    Q: निफ्टी बीज खरिदने के लिये क्या चाहिये?
    Ans:  इसके लिये आपको डिमॅट अकाउंट कि जरुरत पडेगी.

    अन्य पढे:




    Post a Comment

    0 Comments